India vs Australia: भरत अरूण ने बताया कि इन विभागों में टीम को सुधार की आवश्यकता है

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चल रहे मैच में दोनों ही 2 -2 से बराबरी पर हैं अब कोटला मैदान में दोनों ही टीमों के मध्य निर्णायक मैच होने वाला है। कोटला मैच दोनों ही टीमों के लिए महत्वपूर्ण है। और दोनों ही टीम जीतने की कोशिश के साथ कोटला मैदान में उतरेंगी। भारतीय टीम ने पांचवें मैच के पहले वाली शाम को कोटला मैदान में कोई अभ्यास नहीं किया और उन्होंने आराम को महत्व दिया। और इसके साथ ही भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने स्वीकारा कि इंग्लैंड में होने वाले विश्वकप से पहले भारतीय टीम को कुछ क्षेत्रों में मजबूती लानी होगी। और कोटला मैदान के अभ्यास न करने पर भी काफी सवाल खड़े हुए हैं।

इस पर इन्होंने कहा कि हाल ही में हमने कई मैच खेले हैं और टीम कि व्यस्थता भी काफी ज्यादा है इसी कारण से टीम ने कोटला मैदान में अभ्यास नहीं किया। और कल के मैच के लिए मानसिक और शारीरिक दोनों ही रूप से मजबूत होना आवश्यक है और इसलिए हमने अभ्यास नहीं किया ताकि कल का मैच हम ताजगी के साथ खेल सके। भारतीय टीम ने मोहाली में चौथे मैच में 358 रन बनाये लेकिन इसके बाद भी उन्हें हार का सामना करना पड़ा। इसलिए भरत अरुण ने कहा कि हमें अपने खेल में काफी सुधार की जरुरत है तब ही यह मैच जीता जा सकता है। और इस सीरीज के दौरान उनका ऐसा मानना रहा कि खिलाडियों ने यहाँ बहुत कुछ सीखा होगा जो उनके खेल को बेहतर करने में सहयोग करेगा।

अरुण ने बताया कि हमें बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों को ही मजबूत करना है और उन्होंने बताया कि इन सीरीज में इन्होंने अपने सारे संयोजको को आजमाया है ताकि विश्व कप में अच्छा प्रदर्शन दिखा सकें और जीत की और अग्रसर हो सकें। इन्होंने कहा कि विश्वकप को मद्देनज़र रखते हुए एक मजबूत टीम चुनना होगी और इसलिए हमने सीरीज में सभी प्रकार के विकल्पों का इस्तेमाल किया। इंग्लैंड की परिस्थितियां भारत की परिस्थितियों से काफी अलग होंगी और उनके हिसाब से हमें पूरा खेल खेलना होगा। खेल ऐसा हो कि जिसमें मज़ा भी आये और जीत भी हो तब हम एक संतुलित टीम बन पाएंगे। वैसे तो अभी सबकी उम्मीदें कल के मैच पर टिकी हुई एवं दोनों ही टीम कुछ न कुछ जुस्तजू में उलझी हैं। कल का मुकाबला कड़ा होने की सम्भावना हैं।

Be the first to comment on "India vs Australia: भरत अरूण ने बताया कि इन विभागों में टीम को सुधार की आवश्यकता है"

Leave a comment