उथप्‍पा ने खुलासा करते हुए बताया की कैसे वो अवसाद और आत्महत्या जैसे विचारो से लड़ें

भारतीय टीम ने 2007 में टी-20 विश्व कप जीता था,उस टीम के प्रमुख सदस्‍य
रॉबिन उथप्‍पा थे,हाल ही में उन्होंने एक खुलासा करते हुए बताया की वो दो साल
डिप्रेशन और आत्‍महत्‍या जैसे विचारों से लड़ते रहे| उथप्‍पा ने बताया की कभी
कभी बालकनी से नीचे कूदने के लिए 3 तक गिनती गिनते थे,लेकिन पता नहीं
कौन सी चीज थी जो हमेशा उन्हें ऐसा करने से रोक देती थी| रॉबिन उथप्‍पा ने
कहा की 2009 से 2011 के बीच का समय मेरे लिए सबसे ज्यादा डिप्रेशन वाला
समय था और उस समय मेरे मन में लगातार आत्‍महत्‍या करने का विचार आता
रहता था,मै रोजाना सुबह इस विचार से लड़ता था,लेकिन उस समय मुझे समझ में
नहीं आ रहा था की मेरे साथ क्या हो रहा है| 34 वर्षीय रॉबिन ने अभी क्रिकेट से
संन्‍यास नहीं लिया है,लेकिन काफी लम्बे समय से वो भारतीय टीम का हिस्सा
भी नहीं है। उन्होंने बताया की जिंदगी में कैसे उन्होंने उस ख़राब और अवसाद
वाले समय का सामना किया और कैसे डायरी लिखने से उनका अवसाद कुछ कम
हुआ था| रोबिन को आईपीएल 2020 में राजस्‍थान रॉयल्‍स ने 3 करोड़ रुपए में
खरीदा है,लेकिन कोरोना वायरस महामारी के चलते आईपीएल अभी
अनिश्चितकालीन समय के लिए फिलहाल स्‍थगित है| रोबिन ने भारत की तरफ
से 46 एकदिवसीय मैचों में 934 रन,13 टी-20 में 249 रन बनाए है,दूसरी तरफ
आईपीएल में 177 मैचों में 4411 रन बनाए है|

Be the first to comment on "उथप्‍पा ने खुलासा करते हुए बताया की कैसे वो अवसाद और आत्महत्या जैसे विचारो से लड़ें"

Leave a comment

Your email address will not be published.